Sunday, August 16, 2015

Depression explained in Simple Hindi Language - डिप्रेशन (अवसाद) आसान हिंदी भाषा में समझें

Simplify Depression in Hindi -  डिप्रेशन  अवसाद आसान भाषा में समझें 

What is Depression ? 
डिप्रेशन  (अवसाद) क्या है ?

Depression is a very common kind of mental illness, characterized by feelings of sadness and lack of interest in surroundings for prolonged periods. When a person is suffering from prolonged and persistent phase of low mood levels and sadness, it indicates that he / she requires medical intervention.


डिप्रेशन (अवसाद) एक ऐसी मानसिक बीमारी है जिसमे व्यक्ति आस पास के वातावरण से
ऊब चूका  होता है एवं दुखी रहने लगता है । जब इंसान ऐसी स्तिथि मैं रहने
लगे और पूरा दिन दुखी रेंगने लगे तब इसका मतलब है के  उसे तुरंत डॉक्टर
की सहायता की ज़रूरत है। 


What causes Depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) क्यों होता है ?

Interplay of environmental, genetic, psychological and biological factors causes depression. Depression tends to run in families, but in many cases it can even strike individuals with no family history of mental illness.


अधिकतर डिप्रेशन(अवसाद) उन लोगो मैं पाया जाता है जिनके परिवार मैं ये बीमारी
पाई गयी है।  अनेक स्थितियों में  डिप्रेशन जेनेटिक, साइकोलॉजिकल ,
बिओलॉजिकल और पर्यावरण के  कारण  भी हो सकता है। 


What are the Symptoms of Depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) के लक्षण क्या होते हैं ?

Symptoms of depression vary with severity of the illness that has set in. Some of the common symptoms experienced include:

  • Prolonged and persistent episodes of sadness and low mood
  • Getting tired easily
  • Lack of interest in surroundings
  • Loss of appetite or overeating
  • Loss of weight or gain in weight
  • Suicidal thoughts or suicidal attempts
  • Headaches and body ache
  • Problem with digestion
  • Feeling of restlessness and irritability
  • Feelings of worthlessness
  • Poor concentration
डिप्रेशन (अवसाद) के  लक्षण, बीमारी की  गंभीरता पर आधारित है।  निम्नलिखित समस्याएं
डिप्रेशन (अवसाद) से ग्रस्त व्यक्ति अनुभव करता है:
  • दुखी रहना
  • काम में मन न लगना
  • जल्दी थकान  महसूस करना
  • अरुचि का अनुभव
  • भूख  न लगना / ज़रूरत से ज़्यादा खाना
  • वजन घटना या वजन का बढ़ना
  • पाचन शक्ति काम होना
  • सर में दर्द रहना एवं बदन दर्द
  • आत्मा हत्या क ख्याल आना एवं कोशिश करना
  • पाचन शक्ति काम होना
  • बदहज़मी होना
  • बात बात पर उत्तेजित हो जाना
  • एकाग्रता की कमी होना 
  • बेचैनी 
Depression
Depression is very debilitating condition some times

How Depression is diagnosed?
डिप्रेशन  (अवसाद) की पहचान कैसे होती है ?

At the preliminary level, a thorough physical examination would be carried out to rule out other body ailments. Following this, lab tests would be conducted for obtaining complete blood count. A psychological examination would finally help in confirming the diagnosis of depression.

प्राथमिक तौर पर चिकित्सक पूरी शरीर की जांच करता है।  इसके उपरांत,
लेबोरेटरी जांच मैं कम्पलीट ब्लड काउंट किया जाता है।  साथ में मानसिक
जांच की जाती है जिससे डिप्रेशन (अवसाद) का पता चलता है। 


What is Treatment of Depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) का इलाज़ क्या है ?

Medications along with psychotherapy have proven to be beneficial for individuals suffering from depression. Medications are basically prescribed for calming the excited nerves and also for alleviation of other associated symptoms.

दवाइयाँ क साथ साइकोथेरेपी  डिप्रेशन   के इलाज में लाभदायक है। 
दवाइयाँ बेचैनी को शांंत करने के  लिए दी जाती है।  अन्य समस्याओं  के लिए
भी दवाई दी जाती है। 


How to Prevent Depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) से कैसे बचा जा सकता है ?

In some cases it is really difficult to prevent the onset of depression. However, taking steps to keep stress at bay may help in some way to keep the blues out of your life.  A healthy diet,  regular exercise, and taking time out for fun and relaxation, help to prevent a depressed mood. Also, if you notice unusual pattern of sadness and low mood levels, it is best to consult your doctor immediately.


कई हालातों मैं डिप्रेशन (अवसाद) से बचना थोड़ा मुश्किल होता है । परन्तु, अगर हम तनाव  से
दूर रहे और नियमित रूप से व्यायाम, सेहतमंद  खाना और मैडिटेशन  करे तो
डिप्रेशन से बच  सकते है।  इसके उपरांत अगर आपको फिर भी दुःख  का अनुभव हो
या काम मैं मन न लगे तो आपने डॉक्टर से बात  करे। 

What to do if I suspect I have depression?
मुझे शक है कि मुझे डिप्रेशन  (अवसाद) है।  क्या करूँ ?

If you suspect you may be suffering from depression, then it is best to seek immediate medical help. Doing so, would help in early recognition of the problem.

अगर आपको शक है के आपको डिप्रेशन (अवसाद) हुआ है, तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 

What to do if I am having depression?
मुझे डिप्रेशन  (अवसाद) है।  क्या करूँ ?

If you are suffering from depression, then you are advised to take medications regularly and seek proper counseling. You also need to spend time with your family and friends and avoid being alone for longer durations.


अगर आपको डिप्रेशन (अवसाद) है तो, आप डॉक्टर क  दवाइयाँ नियमित रूप  से ले।  इसके
उपरांत, स्वस्थ जीवनशैली अपनाये  और रोज़ व्यायाम करें।  जितना हो सके
अपने परिवार वालो क साथ समय बिताएं और अकेले न रहे। 

What is Ayurvedic treatment of depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) का आयुर्वेदिक इलाज़ क्या है ?

Ayurvedic herbs have proven to extremely effective in balancing your depressed mood levels. Some of the important herbs such as prana vata, tarpaka kapha and sadhaka pitta are used in treatment of depression.

आयुर्वेद क पास कुछ खास औषधियां  है जिससे डिप्रेशन का इलाज हो सकता है.
जो दवाइयाँ उपयोग मैं ली जाती हैं वो है: प्राण वता, तर्पका कफ और साधका
पित्त आदि। 

What is homeopathic treatment of depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) का होमियोपैथी इलाज़ क्या है ?

The science of Homeopathy has some excellent medicines for treating depression. Certain homeopathic medications such as natrum sulph, aurum met, kali phos and ignatia have been successfully used for treating depression in teenagers and adults.

होमियोपैथी भी डिप्रेशन (अवसाद) को ठीक करने मैं काफी लाभदायक है।  दवाइयाँ जो
उपयोगी हैं  वो है: नैट्रम सुल्फ, ऑरम मेट, काली फोस आदि। 

What are dietary recommendations for depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) होने पर खान पान का क्या ख्याल रखना चाहिए ?

Omega-3 fatty acids have shown to have profound effect on patients with depression. Therefore, it is advised that patients make conscious efforts to include foods rich in omega – fatty acids.

ओमेगा - ३ फैटी एसिड्स से युक्त  खाना  लिया जाये तो डिप्रेशन में काफी
लाभ मिल सकता है। 

What lifestyle changes are recommended for controlling depression?
डिप्रेशन  (अवसाद) होने पर जीवन शैली में क्या बदलाव लाना चाहिए ?

Individuals suffering from depression are advised to strictly adhere to a healthy eating pattern and be physically active. It is also necessary to quit smoking, alcohol and recreational drugs.


डिप्रेशन (अवसाद) से ग्रस्त व्यक्तियां नियमित रूप से व्यायाम करे और शारीरिक तौर 
एक्टिव रहें।  अगर आप  तम्बाकू और शराब पीते है तो इनको तुरंत बंद करें। 

Are there any self help groups for depression?
क्या डिप्रेशन  (अवसाद) में मदद के लिए कुछ सेल्फ हेल्प ग्रुप्स हैं ?

Yes, there are many self help groups for depression. Certain websites offer online help and support for those suffering from depression. Here are some links: 

हाँ डिप्रेशन (अवसाद) में  मदद क लिए बहुत सी सेल्फ हेल्प ग्रुप्स हैं।  कुछ सेल्फ
ग्रुप्स क लिंक नीचे दिए गए है:

http://www.supportgroupscentral.com/depression/
http://www.dbsalliance.org/site/PageServer?pagename=peer_support_group_locator

0 Reactions:

Post a Comment