Sunday, August 2, 2015

Hepatitis B explained in simple language - हेपेटाइटिस बी आसान हिंदी भाषा में

Simplify Hepatitis B -  हेपेटाइटिस बी आसान हिंदी भाषा में



What is hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी क्या है ?

Hepatitis B is characterized by infection of the liver caused by HBV. If the viral infection turns chronic it can lead to liver failure or cirrhosis.

हेपेटाइटिस बी लिवर का एक इन्फेक्शन है जो HBV वायरस द्वारा होता है।  अगर ये इन्फेक्शन पुराना हो जाए तो जिगर में सूजन, लिवर फेलियर, और सिरोसिस हो सकती है।

What causes hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी क्यों होता है ?

The Hepatitis B virus causes hepatitis B infection. Individuals with a compromised immune system or suffering from long term illness are more prone to get infected with the virus.

हेपेटाइटिस बी का वायरस ही हेपेटाइटिस बी इन्फेक्शन करता है। जिन व्यक्तियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो या फिर जो किसी स्लम्बी बिमारी से ग्रस्त हों। उन्हें हेपेटाइटिस बी होने का खतरा ज्यादा रहता है।

Does hepatitis B spread from person to person?
क्या हेपेटाइटिस बी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फ़ैल  सकता है ?

Yes, hepatitis B is a contagious disease and spreads from one person to another.
हाँ।  हेपेटाइटिस बी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को फ़ैल सकता है।

How does hepatitis B spread?
हेपेटाइटिस बी कैसे फैलता है ?

The following are the routes of transmission of hepatitis B virus:

  • Practicing unsafe sex with individuals infected with the virus
  • Sharing the same needles of infected persons
  • Infected pregnant women can pass on the virus to their babies during the process of childbirth
हेपेटाइटिस बी निम्नलिखित तरीकों से फ़ैल सकता है:

  • किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ बिना प्रोटेक्शन के सेक्स करना 
  • किसी संक्रमित व्यक्ति के द्वारा इस्तेमाल की गयी नीडल्स/सुई का इस्तेमाल करना 
  • संक्रमित माता से प्रसूति के समय बच्चे को हो सकता है 


What are the symptoms of hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी के लक्षण क्या होते हैं ?

Signs and symptoms of hepatitis B include fever along with joint pain and weakness. Individuals also suffer from abdominal pain and nausea accompanied by vomiting. Gradually jaundice may set in and the color of the urine and stool changes.

Hepatitis B

हेपेटाइटिस बी के लक्षण विभिन्न प्रकार  के हो सकते हैं।  जिसमे बुखार, कमजोरी, पेट और जोड़ो में दर्द हो सकता है।  आम तौर पर पेट में दर्द , बदहजमी, जी मिचलाना, और उलटी हो सकती है। धीरे धीरे पीलिया  और मूत्र और मॉल का रंग बदल जाता है।

How hepatitis B is diagnosed?
हेपेटाइटिस बी की पहचान क्या होती है ?

Several blood tests are done for diagnosing hepatitis B infection. In many cases, liver biopsy would also be required.

खून के टेस्ट से हेपेटाइटिस बी की पहचान हो जाती है। अल्ट्रासाउंड और कई मरीज़ों में बायोप्सी की जरुरत पद सकती है।

What tests should be done for hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी के लिए कौन से टेस्ट करवाने चाहिए ?

The following tests are done for hepatitis B:

  • Blood tests – also known as hepatitis viral panel
  • Liver function tests
  • Albumin levels
  • Prothrombin time
  • Liver biopsy
हेपेटाइटिस बी के लिए निम्नलिखित टेस्ट करवाने चाहिए :


  • हेपेटाइटिस बी लिवर पैनल 
  • लिवर फंक्शन टेस्ट 
  • एल्ब्यूमिन लेवल 
  • प्रोथ्रॉम्बिने टाइम 
  • लिवर बायोप्सी 


What are different stages of hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी की अवस्थाएं कौन सी होती हैं ?

Hepatitis B infection manifests in 3 different stages, which include:

  1. Immunotolerant phase
  2. Immunoactive phase
  3. Non replicative phase
हेपेटाइटिस बी की निम्नलिखित अवस्थाएं होती हैं :


  1. इम्यूनोटोलेरंट फेज 
  2. इम्यूनोऐक्टिवे फेज 
  3. नॉन रेप्लिकेटिव फेज 


What is the treatment of hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी का इलाज़ क्या होता है ?

If the infection is acute, then treatment may not be necessary. Ample rest coupled with good food and adequate fluids should be enough. If the infection is chronic in nature, then antiviral medications and interferon alpha-2b are prescribed. In severe cases, a liver transplant may also be advised.

अगर इन्फेक्शन नया ही है तो आम तौर पर इलाज़ की जरुरत नहीं होती।  आराम और खाने पीने का ध्यान रखना चाहिए। और समय समय पर टेस्ट करवाते रहना चाहिए। पर अगर इन्फेक्शन पुराना होने लगे और स्वयं से ठीक ना हो तो एंटी वायरल दवाइयाँ लेनी चाहिए।  ज्यादा होने पर इंटरफेरॉन अल्फा के इंजेक्शन भी लगाने पड़ते हैं। अगर लिवर फेलियर हो जाए तो लिवर ट्रांसप्लांट करवाने की जरुरत पड़  सकती है


How to prevent hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी से बचाव कैसे किया जा सकता है ?

Getting vaccinated is the primary step towards prevention of hepatitis B infection. In addition, individuals are also advised to practice safe sex and play safe while piercing their bodies with ornaments.

हेपेटाइटिस बी की वैक्सीन  बाजार में उपलब्ध है और वो लगवानी चाहिए।  साथ में अन्प्रोटेक्टेड सेक्स और शेयर्ड सुइयों से बचाव करना चाहिए।  जहां भी इंजेक्शन लगवाएं , सुनिश्चित करें के ये डिस्पोजेबल सुई और सिरिंज है।

What is the schedule of hepatitis B vaccine?
हेपेटाइटिस बी की वैक्सीन का schedule क्या होता है ?

Hepatitis B vaccine is imparted in 3 – 4 doses over a period of 6 months. Standard dose schedule is on 0, 1 and 6 months

हेपेटाइटिस बी वैक्सीन की ३ डोज दी जाती हैं।  0, 1 और ६ महीने पर ३ डोज दी जाती हैं।  ५ साल के बाद एक बूस्टर डोज दी जाती है।

What to do if I suspect I have hepatitis B?
मुझे शक है मुझे हेपेटाइटिस बी है।  क्या करूँ ?

If you suspect that you have been infected with the virus, then receive an injection of within a period of 12 hours after exposure to virus. Get Blood tests Viral load levels done. Consult your  doctor  immediately

अगर आपको लगता है के आप संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये हैं तो इम्मुनोग्लोबिन का इंजेक्शन लगववाने की जरुरत पड़  सकती है।  अपने टेस्ट करवाएं और डॉक्टर की सलाह लें।

What to do if I am having hepatitis B?
मुझे हेपेटाइटिस बी है।  क्या करूँ ?

If you are having hepatitis B, then get ample rest and meticulously follow the treatment plan given to you by your doctor. Take proper diet as advised and avoid Alcohol, and medicines which are metabolised in liver

अगर आपको हेपेटाइटिस बी है तो आराम करें और डॉक्टर द्वारा बताये हुए इलाज़ का बिलकुल अनुशासन से पालन करें। नियमित खाना खाएं और शराब से बचाव करें।  साथ ही ऐसी दवाइयों से बचें जो जिगर में मेटाबोलाईज होती हैं।

What is Ayurvedic treatment of hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी का आयुर्वेदिक इलाज़ क्या है ?

Herbal formulae used in Ayurvedic medicine help in treatment of hepatitis B. The various herbs used include terminalia arjuna, cinnamomum zeylanica, boerhavia diffusa, phyllanthus niruri and andrographis.

आयुर्वेद में हेपेटाइटिस बी के इस्तेमाल के लिए कई दवाइयाँ इस्तेमाल की जाती हैं। हालांकि ये वायरस को खत्म करने में कितनी कारगर हैं ये अभी साबित नहीं हो पाया है।  अर्जुन, सिनामोन, पुनर्नवा,भूम्यांवला आदि लिवर का बचाव करने में सहायक हैं।

What is homeopathic treatment of hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी का होम्योपैथिक इलाज़  क्या है ?

Homeopathic medications have some promising effects in the treatment of hepatitis B. The various medicines used include: hepatitis B nosode 30c and hepatitis B Vac 30c.

इस्तेमाल की जाने वाली होम्योपैथिक दवाइयों में नोसोडे ३० सी आदि सम्मिलित हैं।


What are dietary recommendations for hepatitis B?
हेपेटाइटिस बी में खाने पीने का क्या ख्याल करना चाहिए ?

Individuals with hepatitis B are advised against consuming fats during the recovery period. A diet that is rich in vitamins, minerals and calories are advised. Moreover, individuals should also increase their fluid intake. Avoid Alcohol and other medicines which are metabolised in liver.

हेपेटाइटिस बी के मरीज़ों को तला  हुआ खाना और अत्यधिक वसा वाला खाना नहीं खाना चाहिए। अपने खाने को विटामिन, मिनरल्स और साधाराण  कैलोरीज से युक्त रखें।  अगर लिवर फेलियर नहीं हुआ है तो ज्यादा पानी और तरल पदार्थ लेने चाहिए।  शराब का सेवन बिलकुल ना करें। 

2 comments:

  1. Mujhle hepatitis b positive aaya fir Dr ne ek dna name ka test karvaya us test ki report k bad Mujhe koi treatment nhi diya kha ap bina treatment thik hojayge.me kya kru?

    ReplyDelete
  2. kya faty liver so bhi hepatitis virus positive aata h

    ReplyDelete